HANUMAN CHALISA RED COLOR PDF

Looking for a vibrant and easily accessible version of the Hanuman Chalisa? Discover the Hanuman Chalisa Red Color PDF, the perfect resource to add vibrancy to your devotional practice. Download now for a visually appealing and SEO-friendly

HANUMAN CHALISA RED COLOR PDF: Hanuman Chalisa: हनुमान चालिसा को आप हर रोज यहां पढ़ सकते है, हनुमान चालीसा में लिखा है जो हर दिन हनुमान चालीसा का पाठ करता है उस पर हनुमान जी के साथ ही साथ रामजी और भगवान शिव पार्वती की भी कृपा रहती है। और जिस पर रामजी की कृपा हो जाती है उस पर तो सभी की कृपा होती है, इसलिए ही तो कहते हैं कि, जा पर कृपा राम की होई, ता पर कृपा करहिं सब कोई। तो हनुमानजी के साथ रामजी की कृपा पाने के लिए हर दिन खास तौर पर मंगलवार और शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ जरूर करें।

Certainly, I can help you create a blog post related to the “Hanuman Chalisa Red Color PDF.” Here’s a blog post in Devanagari Hindi:


श्री हनुमान चालीसा रेड कलर PDF: एक महत्वपूर्ण आध्यात्मिक धरोहर

हनुमान चालीसा एक अत्यंत महत्वपूर्ण आध्यात्मिक मंत्र है जो भगवान हनुमान की प्रशंसा में गाया जाता है। यह मंत्र उनकी महात्म्य को गौरवित करता है और भक्तों को उनके सानिध्य में सुख और शांति प्रदान करता है।

अगर आप हनुमान चालीसा को पढ़ना या सुनना चाहते हैं, तो आपको “हनुमान चालीसा रेड कलर PDF” की तलाश हो सकती है। इसका मतलब है कि आप इस प्रमुख मंत्र को अपने डिजिटल उपकरणों पर पढ़ने के लिए एक PDF फ़ाइल के रूप में डाउनलोड कर सकते हैं, और यह रेड कलर में भी उपलब्ध हो सकता है।

हनुमान चालीसा: एक आध्यात्मिक महत्व

हनुमान चालीसा का पाठ करने से भक्त अपने जीवन में सुख, शांति और समृद्धि प्राप्त करने की कामना करते हैं। यह मंत्र भगवान हनुमान की भक्ति में स्थिरता और आध्यात्मिक उन्नति प्रदान करने के लिए भी जाना जाता है।

रेड कलर की बड़ी महत्वपूर्णता है, क्योंकि रेड रंग शक्ति, प्रेम और उत्साह का प्रतीक होता है। इसलिए, “हनुमान चालीसा रेड कलर PDF” एक और भी महत्वपूर्ण आध्यात्मिक संदेश को प्रकट कर सकता है।

अपने आध्यात्मिक अभियान की शुरुआत करें

अगर आपने “हनुमान चालीसा रेड कलर PDF” की तलाश की है, तो आपके आध्यात्मिक अभियान की शुरुआत हो चुकी है। यह मंत्र आपको सही मार्ग पर ले जाने में मदद कर सकता है और आपको आध्यात्मिक उन्नति की ओर अग्रसर कर सकता है।

आपके सामाजिक, आर्थिक, और आध्यात्मिक जीवन में सफलता पाने के लिए “हनुमान चालीसा रेड कलर PDF” को डाउनलोड करके इसका पाठ करें और भगवान हनुमान की कृपा प्राप्त करें।

HANUMAN CHALISA RED COLOR PDF

दोहा :

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।। 

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।। 

चौपाई :

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

रामदूत अतुलित बल धामा।अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी।कुमति निवार सुमति के संगी।।

कंचन बरन बिराज सुबेसा।कानन कुंडल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन।तेज प्रताप महा जग बन्दन।।

विद्यावान गुनी अति चातुर।राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

भीम रूप धरि असुर संहारे।रामचंद्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये।श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

जुग सहस्र जोजन पर भानू।लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

दुर्गम काज जगत के जेते।सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे।होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।तुम रक्षक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै।तीनों लोक हांक तें कांपै।।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरै सब पीरा।जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

संकट तें हनुमान छुड़ावै।मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा।तिन के काज सकल तुम साजा।

और मनोरथ जो कोई लावै।सोइ अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा।है परसिद्ध जगत उजियारा।।

साधु-संत के तुम रखवारे।असुर निकंदन राम दुलारे।।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।अस बर दीन जानकी माता।।

राम रसायन तुम्हरे पासा।सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुम्हरे भजन राम को पावै।जनम-जनम के दुख बिसरावै।।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई।हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

संकट कटै मिटै सब पीरा।जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जै जै जै हनुमान गोसाईं।कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।

यह सत बार पाठ कर जोई।छूटहि बंदि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

तुलसीदास सदा हरि चेरा।कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।। 

दोहा :

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।

राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

हनुमान चालीसा एक शक्तिशाली आध्यात्मिक और मानसिक साधना है जो हमें अपने दिव्य स्वरूप को जानने और सहयोग प्राप्त करने में मदद कर सकता है। “हनुमान चालीसा रेड कलर PDF” डाउनलोड करने से आप इस महत्वपूर्ण आध्यात्मिक साहित्य का अध्ययन कर सकते

You cannot copy content of this page